Uttarakhand Stories

Tell us the name of the local temple of your village and the beliefs associated with it, which makes Uttarakhand truly a “Devbhumi”

by Manoj Bhandari
Oct 19, 2015

Result of Facebook Daily Contest #17

And the winners are:

1.

of Uttarakhand Online Fest 2015

Manish Garhswal

Mere gaon Devari me even mere ghar se thodi hi dur ek Shivji ka mandir h ye mandir bahut purana hai yha k log kehte h ki ek bar ek admi hal chla raha tha to jo hal k age fnni hoti h wo kisi chiz se takrai kaffi musshakat k bad jb hal chalane wale ne fase hue hal ko nikala to ek Shivling nikla fir unhone vaha pe ek Shiv ka mandir banaya Shivling k upr wo hal ki kharonch aj bhi hai mene dekha hai or is mandir me ja ke logo ki manokamnae jarur puri hoti h yaha par purt prapti k liye log khadiratri krte hai or mene khud dekha hai kai logo ko iska fal bhi mila h.

2.

Nidhi Mathpal

उत्तराखंड के गांव में कई ऐसे मंदिर है जो अपनी धार्मिक मान्यताओं के लिए प्रसिद्ध हैं ऐसे ही कुमाऊँ के अल्मोड़ा जिला शशिखाल के निकट एक छोटा सा गांव है तराड़ जो यहां रामगंगा नदी के तट पर बने न्याय के राजा हरू हीत के प्राचीन मंदिर के लिए बहुत प्रसिद्ध है। यहाँ के लोगों की धार्मिक मान्यताओं व आस्था का प्रतीक यह मंदिर न्याय व्यवस्था के लिए प्रसिद्ध है। माना जाता है कि यदि कोई व्यक्ति अपनी कोई भी समस्या राजा जी के सामने कहते हैं तो राजा जी उनके साथ न्याय करते हैं । यहाँ दूर-दूर से लोग अपनी परेशानियों के लिए मन्नत मांगते है व मन्नत पूरी होने पर राजा जी के मंदिर में माथा टेकने जाते हैं। यहाँ के स्थानीय लोगों के अनुसार राजा जी रात मे अपनी सेना के साथ निकलते हैं जिन्हें यहाँ के कई लोगों द्वारा देखा भी गया है। कहा जाता है कि यहाँ से आज तक कोई भी व्यक्ति खाली हाथ नहीं लौटा है।

Besides the above winners, we also found the following comments worth appreciation:

Jay Singh Bisht

Hi eUttaranchal mujhe apka ye question bhut accha laga or mein apne Isht Dev ki baat aapse share kar raha. Mein baat kar raha hu apne or Kumaun ke devo me se ek hai ‘Nyay’ ke Devta Golu Ya Goyal Devta ki jo Nyay ke Devta ke naam se bhi prasidh hai. Golu Devta Kumaun ke Katyuri Rajvansh ke Raja ‘Jhalrai’ ke putra hai or jhalurai ki eight raani ke putra hai. Ab mein apko humare gao ki baat btata hu jab British rule tha India mein tab Uttarakhand ke Almora district ke Bhikiyasain market se 10 km aage ek gao h INDA jo ki mera gao hai ek baar wha ek angrez aaya usne humare gaon mein ek buzurg lady se doodh manga peenein ko lekin humare gao mein subh ka doodh Golu Devta par chadta hai to unhone doodh dene se mana kar diya jiski vajh se wo angrez sainik gussa ho gya or bola kyun mana kar rahe ho doodh dene se fir unhone (lady) ne btaya ki humare Isht Dev ko pahle chadega or fir apko denge ye sunkar wo or gussa ho gya or kahne laga ki tumhara. Isht bada hai ya mein mera raaz hai abhi ye sunkar wo doodh dene par majboor ho gyi or kamre m doodh lene gayi or Golu Devta ko pray kiya ki, hey Isht Dev aap meri laaj rakhe, fir jab wo doodh leke bahar angrez ke pass aayi to jaise wo doodh ka gilaas angrez ne padha wo doodh se khoon me badal gya jisse wo angrez darr gya or gilaas uske hath se niche gir gya ye sab dekh kar us angrez ne hath jode bola ki tumhara Isht bada hai but iski saja us lady ko bhi mili tabse unke ghar mein doodh band hi ho gya or fir unhone puja karwai Golu Devta ki tab se ek time doodh unka chalta h nhi to abhi wo doodh kharab ho jata hai. Jai Golu Devta!

Mahendra Rawat

(#Bhairavgadhi Temple in Kirtikhal, near Lansdowne- dedicated to भैरव, the dangerous form of Lord Shiva ) few months back I went there. It is a trek of 1.5 km distance. While I was walking towards the temple a pahadi dog accompanied me during the trek. He was very friendly and walked thru the path with me. I also offered him आलू पराठा which I had brought with me and he finished it. Later I came to know that it is a common belief in that place that a dog accompanying you to the temple is the incarnation of Lord Bhairav himself. I was filled with a feeling of happiness and blessed after hearing that. जय भोले नाथ!

Sandeep Rawat

Ae Kartik Swamy, the Kartik Swami temple is dedicated to the elder son of Lord Shiva, Kartikeya, who offered his bones as the testimony of his devotion to his father. It is believed that the incident took place here. A constant sound from hundreds of bell hung in the temple can be heard at a distance of about 800 metres from there. A flight of 80 stairs from the main road leads you to the garbhagriha of the temple or the place where the idol is kept. Lord Shiva told his sons Ganesha and Kartikeya that one of them, who will be the first to take seven rounds of the universe will have the privilege of being worshiped first.
Ganesha took seven rounds around Shiva and Parvati while Kartikeya faithfully circled the universe. Impressed by Ganesha, Shiva gave him the honour of being worshipped before anyone. Angered by this, Kartikeya sacrificed his body and gave his bones to Lord Shiva as reverence.

 

Manoj Bhandari

Manoj Bhandari


Leave a Reply

2 Responses


Manoj Bhandari Says

रामनगर के प्रसिद्ध गिरिजा माता मंदिर पर प्रकाश डालने के लिए धन्यवाद. आपके द्वारा साझा की गई जानकारी अन्य लोगों को वहां जाने के लिए प्रेरित करेगी. धन्यवाद.

Harish Dutt Says

गिरिजा माता महात्म्य:-

यह जगह मेरी गाँव को जाते समय आती है, आवर जब भी मैं इस जगह पर जाता हूँ, तो मुझे यहाँ पर माता की उपस्थिति का पता चलता है .

लोक मान्यता है कि वर्ष १९४० से पूर्व यह क्षेत्र भयंकर जंगलों से भरा पड़ा था, सर्वप्रथम जंगलात विभाग के तत्कालीन कर्मचारियों तथा स्थानीय छुट-पुट निवासियों द्वारा टीले पर मूर्तियों को देखा और उन्हें माता जगजननी की इस स्थान पर उपस्थिति का एहसास हुआ। एकान्त सुनसान जंगली क्षेत्र, टीले के नीचे बहते कोसी की प्रबल धारा, घास-फूस की सहायता से ऊपर टीले तक चढ़ना, जंगली जानवरों की भयंकर गर्जना के बावजूद भी भक्तजन इस स्थान पर मां के दर्शनों के लिये आने लगे। जंगलात के तत्कालीन बड़े अधिकारी भी यहां पर आये, कहा जाता है कि टीले के पास मां दुर्गा का वाहन शेर भयंकर गर्जना किया करता था। कई बार शेर को इस टीले की परिक्रमा करते हुये भी लोगों द्वारा देखा गया।

भगवान शिव की अर्धांगिनि मां पार्वती का एक नाम गिरिजा भी है, गिरिराज हिमालय की पुत्री होने के कारण उन्हें इस नाम से भी बुलाया जाता है। इस मन्दिर में मां गिरिजा देवी के सतोगुणी रुप में विद्यमान है। जो सच्ची श्रद्धा से ही प्रसन्न हो जाती हैं, यहां पर जटा नारियल, लाल वस्त्र, सिन्दूर, धूप, दीप आदि चढ़ा कर वन्दना की जाती है। मनोकामना पूर्ण होने पर श्रद्धालु घण्टी या छत्र चढ़ाते हैं। नव विवाहित स्त्रियां यहां पर आकर अटल सुहाग की कामना करती हैं। निःसंतान दंपत्ति संतान प्राप्ति के लिये माता में चरणों में झोली फैलाते हैं।

इसी परिसर में एक लक्ष्मी नारायण मंदिर भी स्थापित है, इस मंदिर में स्थापित मूर्ति यहीं पर हुई खुदाई के दौरान मिली थी।